दिसंबर 27, 2006

बेटियाँ


बेटियाँ-
शीतल हवाएँ हैं
जो पिता के घर बहुत दिन तक नहीं रहतीं
ये तरल जल की परातें हैं
लाज़ की उज़ली कनातें हैं
है पिता का घर हृदय-जैसा
ये हृदय की स्वच्छ बातें हैं
बेटियाँ -
पवन-ऋचाएँ हैं
बात जो दिल की, कभी खुलकर नहीं कहतीं
हैं चपलता तरल पारे की
और दृढता ध्रुव-सितारे की
कुछ दिनों इस पार हैं लेकिन
नाव हैं ये उस किनारे की
बेटियाँ-
ऐसी घटाएँ हैं
जो छलकती हैं, नदी बनकर नहीं बहतीं


Dr.Kunwar Bechain

20 टिप्‍पणियां:

अनूप भार्गव ने कहा…

वाह ! कितनी सरल और सुन्दर कविता है ।

kunwar ने कहा…

बहुत-बहुत शुक्रिया अनूप जी।
कुँअर

मैथिली ने कहा…

बहुत, बहुत सुन्दर. सीधे दिल तक असर करने वाली

बेनामी ने कहा…

बहुत-बहुत शुक्रिया मैथिली जी ।
कुँअर

Nishikant Tiwari ने कहा…

सामने सब के स्वीकार करता हूँ
हिन्दी से कितना प्यार करता हूँ
कलम है मेरी टूटी फूटी
थोड़ी सुखी थोड़ी रुखी
हर हिन्दी लिखने वाले का
प्रकट आभार करता हूँ
आप लिखते रहिए
मैं इन्तज़ार करता हूँ ।
NishikantWorld

Mrityunjay Kumar Srivastava ने कहा…

Mai bchpan ko bula rhi thi ,meri bitiya bol pdi
subhdra kumari chaun ki upar ki es pankti aur kunwar ji ki pankti samvedna ki ghani chadar bunti hai.Es rachna ko pdhne ke bad aansoon ko apna dost mil gya hai.
mrityunjay k srivastava sadhak

महावीर ने कहा…

भावनाओं से ओत-प्रोत, बड़े ही सुंदर ढंग से उजागर करती हुई, सुंदर शब्दों के सहारे प्रवाहमयी बहुत ही प्रभावशाली रचना है।

श्रद्धा जैन ने कहा…

वाह बहुत सुंदर कविता है
आप जैसे कवियों से ही तो आज कविता और एहसास ज़िंदा है

Sumit Pratap Singh ने कहा…

AAPKI YE JO KAVITAI...
APUN KO BADI BHAYI...
IS KAVITA KE LIYE BADHAI...

vipinkizindagi ने कहा…

बेटियाँ-
ऐसी घटाएँ हैं
जो छलकती हैं, नदी बनकर नहीं बहतीं.....


sir, behtarin bhi chota shbd hai...
dil ko chu gai yaha rachna....
main bhi gazal likhta hun, mere blog par bhi aaye..

सुमित प्रताप सिंह ने कहा…

जन्माष्टमी पर सब सुनेगे क्रंदन

जन्म लेंगे जब देवकी नंदन

गोपियों संग होगी रास लीला

यशोदा पुत्र का होगा अभिनन्दन

कवि छिप बैठे छज्जे से सटके

गुप-चुप माखन खायेंगे डटके।

आदरणीय कुंवर जी को
जन्माष्टमी की शुभकामनाएं

सुमित प्रताप सिंह ने कहा…

आदरणीय कुंवर जी!

सादर ब्लॉगस्ते!

कृपया निमंत्रण स्वीकारें व अपुन के ब्लॉग सुमित के तडके (गद्य) पर पधारें। "एक पत्र आतंकवादियों के नाम" आपकी अमूल्य टिप्पणी हेतु प्रतीक्षारत है।

vanitatomar ने कहा…

good.

सुलभ 'सतरंगी' ने कहा…

सरल सुन्दर चित्रण !

Kaka ने कहा…

अतिसुन्दर चित्रण

नरेन्द्र व्यास ने कहा…

प्रथमत: प्रणाम श्रद्धेय श्री कुंवर बेचैन जी

आपकी इस रचना ने तो सच में इतना भावुक कर दिया कि ..बस...नि:शब्‍द। सच में बेहद सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।। बधाई और बेहद आभार ।। सादर वन्‍दे।

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar ने कहा…

डॉ.बेचैन साहब,
नमस्कारम्‌!

बहुत प्यारी रचना है यह...प्यारी ‘बिटिया’-सी प्यारी...हार्दिक बधाई! यह रचना मैंने पहले भी कहीं पढ़ी है...अच्छी रचनाएँ चाहे जितनी बार पढ़ी जाएँ, हर बार आनन्द देती हैं!

"बेटियाँ -
पवन-ऋचाएँ हैं"

इन पंक्तियों में ‘पावन’ की जगह ‘पवन’ टंकित हो गया है, हालाँकि सभी समझ ही लेंगे...तथापि यदि सुधार दें, तो बेहतर होगा।

धन्यवाद!

S k Srivastava ने कहा…

Respected Kunwar ji

kabhi kabhi kisi bat ko sirf kah dena bada aasan hota hai,parantu usi roop me aatmsat kar lena ye iswar ki krupa hi hai.aapki is anuthi kavita ke liya hardik abhinandan.jo log ise aatmsat kare unka banadan.

सुनीता शानू ने कहा…

आप भी चले आयें ब्लॉगर मीट में नई पुरानी हलचल

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बेटियाँ-
ऐसी घटाएँ हैं
जो छलकती हैं, नदी बनकर नहीं बहतीं


बहुत ही गहरे अर्थ लिए पंक्तियाँ।

सादर